Indian food for gastric patients in Hindi- पेट में गैस बनना या असिडिटी होना एक बहुत ही बड़ी परेशानी होती हैं। पेट फूलने के कारण आप अपने आप को असहज महशूस करते हैं जिस कारण आपका काम में भी ध्यान नहीं लग पाता हैं। इसके साथ ही आप खाने-पीने की वस्तुओं का भी आनन्द नहीं उठा पाते हैं।

यदि गौर किया जाये तो यह समस्या तली हुई या बाजारू चीजों के खाने के कारण ज्यादा होती हैं, हालांकि कुछ लोगों को बिना किसी कारण के भी प्रत्येक दिन इस समस्या का सामना करना पड़ता हैं। यदि आप अपने खान पान पर थोड़ा ध्यान दें तो इस समस्या से राहत पा सकते हैं। क्या आपको पेट फूलने की समस्या से बचने का घरेलू उपाय पता हैं?

अगर आपको भी यह समस्या रहती है, तो आपको इन चीजों को अपनी डायट में जरूर शामिल करना चाहिए। आपको खाने में तली हुई और ज्यादा मसाले वाली चीजों से परहेज करना चाहिए साथ ही फाइबर युक्त चीजों का सेवन ज्यादा से ज्यादा करना चाहिए। स्पेशलिस्ट के अनुसार पेट फूलने के समस्या से ग्रसित व्यक्तियों का डाइट कुछ ऐसी होनी चाहिए_ gastric patient diet chart in Hindi –

gastric-patient-diet-chart-in-hindi

सुबह का नास्ता ( ब्रेकफास्ट) – सुबह के पहले नास्ते में आपको एक कप किशमिश और बादाम मिलाकर खाना चाहिए साथ ही एक कप गाय का दूध पिएं। इससे आपकी बॉडी को पर्याप्त मात्रा में फाइबर मिलेगा जिससे पाचन क्रिया सही होती हैं।

मिड-मोर्निंग स्नैक्स- इस वक्त आपको एक कप दही जिसका फैट कम हो साथ ही एक नाशपाती खा सकते हैं। इसके साथ ही हाईड्रेटेड रहने के लिए ताज़ा फलों का जूस पिएं।

लंच – लंच में आपको फाइबर से भरपूर चीजों को खाना चाहिए इससे पेट की गैस धीरे-दारे कम होती हैं साथ ही पेट भी हल्का होता हैं इसमें एक कप ब्राउन राइस, एक कप टोफू या कॉटेज चीज करी होनी चाहिए।

इवनिंग स्नैक्स– इस वक्त आपको करीब 20 ग्राम ड्राई रोस्टेड पीनट खाना चाहिए, इससे आपकी गैस बनना कम होगी साथ ही अपच और एसिडिटी से भी बचाव होगा।

डिनर- डिनर के वक्त आपको दो रोटी और करीब 85 ग्रोम ग्रिल्ड चिकन या दो कप हरी सब्जियों का सेवन करना चाहिए। यहां आपको सलाह दूंगा कि आप मीठी व नमकीन चीजों से दूर रहें, क्यों ये चीजें आपकी समस्या को और बढ़ा सकती हैं।